-कोरोना से घबराने की नहीं सतर्कता बरतने की जरूरत -आचार्य बालकृष्ण

-नगर निगम महापौर को आचार्य बालकृष्ण ने दिया हर संभव सहयोग का आश्वासन


एस के विरमानी/ऋषिकेश-कोरोना की चुनौतियों से निपटने के लिए नगर निगम महापौर अनिता ममगाई ने कुम्भ नगरी हरिद्वार के पतंजलि योगपीठ में आर्चाय बालकृष्ण से मुलाकात की।रविवार को पंतजलि योगपीठ पहुंची  ऋषिकेश नगर निगम महापौर ने दुनियाभर पर मंडरा रहे कोरोना के खतरे पर गहन चर्चा की।
                                    
महापौर को आर्चाय बालकृष्ण ने बताया कि कोरोना वायरस को योग और आयुर्वेद के माध्यम से रोका जा सकता है।उन्होंने कहा कि इससे घबराने की नहीं सतर्कता बरतने की जरूरत है। आचार्य बालकृष्ण ने अनुलोम विलोम,सूर्य नमस्कार, प्राणायाम और कपाल भाति जैसे योग के माध्यम से इस वायरस से बचने के उपाय बताए। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से बचने के लिए अच्छी  रोग प्रतिरोधक छमता का होना  बेहद जरूरी है। 
                                      
शाकाहारी लोगों के लिए मांसाहारियोंं की तुलना में इस वायरस से निपटना ज्यादा आसान है।उन्होंने बताया कि गिलोय और तुलसी से रोग प्रतिरोधक छमता बड़ाई जा सकती है।इसका सेवन कोरोना का अचूक इलाज है।उन्होंने कहा कि इससे घबराने की नहीं सतर्कता बरतने की जरूरत है। 
                                     

इस चर्चा वार्ता के दौरान नगर निगम महापौर ममगाई ने आचार्य बालकृष्ण को ऋषिकेश में निगम प्रशासन की और से कोरोना को लेकर आयोजित होने वाले जनजागरूकता कार्यक्रमों में  सहयोग की अपील की जिस पर उन्होंने महापौर को पंतजलि योगपीठ के माध्यम से हर संभव सहयोग का आश्वासन दिया।
Share To:

Post A Comment: