-कोरोना वायरस को देखते हुए होटल स्वामियों को दिए कड़े दिशा निर्देश

-20 फरवरी के बाद होटलों में रुके विदेशी पर्यटकों के स्वास्थ्य जांच के दिए निर्देश 

दिनेश सिंह सुरीयाल/मुनीकीरेती।तपोवन क्षेत्र में होटल संचालकों को प्रभारी निरीक्षक थाना मुनी की रेती ने कोरोना वायरस से संक्रमण और उससे बचने के उपायों के बारे में जानकारी दी।प्रभारी निरीक्षक थाना मुनी की रेती ने आरके सकलानी ने सभी संचालकों को बताया कि प्रत्येक होटल में 20 फरवरी 2020 के बाद से जो विदेशी नागरिक रुके हैं। उनका टेस्ट कराना बहुत जरूरी है। 

मौके पर ही होटल संचालकों को एक प्रारूप दिया गया और विदेशी नागरिकों से संबंधित जानकारियां प्रारूप में अगले दिन तक थाना मुनि की रेती और एलआईयू को उपलब्ध कराने के लिए आदेशित किया। इसके साथ ही होटल संचालकों को अवगत कराया गया। कि जिस होटल में भी कोरोना से संबंधित संक्रमित पर्यटक या कर्मचारी पाया जाता है। 


उस होटल को ही अगले 28 दिन तक क़ुरएन्टीन सेंटर बनाया जाएगा। भारतीय दंड संहिता की धारा 269 और 270 का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि यदि कोई ऐसा व्यक्ति जिसे मालूम है कि वह संक्रमित है और अपनी लापरवाही से दूसरे को संक्रमित कर रहा है तो उसके खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया जा सकता है साथ ही अगर किसी होटल संचालक ने कोई जानकारी छिपाई हो तो उसके खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।एलआइयू के मुताबिक इस समय तपोवन में 375 विदेशी नागरिक है जिन पर स्वास्थ्य विभाग लगातार निगरानी रखे हैं। 


बैठक के दौरान थाना प्रभारी आरके सकलानी ने बताया कि बीती 20 फरवरी के बाद जो भी विदेशी नागरिक इस क्षेत्र में रुके हैं उनका टेस्ट कराना अति आवश्यक है। इस दौरान उन्होंने होटल संचालकों को एक प्रारूप दिया और विदेशी नागरिकों से संबंधित जानकारियों को उसमें भरकर उन्हें सौंपने के लिए निर्देशित किया। 
                                    

इसके साथ ही उन्होंने बताया कि यदि होटल में भी कोरोना से संबंधित संक्रमित पर्यटक या कर्मचारी पाया गया तो उस होटल को अगले 28 दिनों तक ओरिएंटेशन सेंटर बनाया जाएगा। इस मौके पर तपोवन चौकी प्रभारी उप निरीक्षक विनोद कुमार भी मौजूद रहे।
Share To:

Post A Comment: