-दोहरी चुनोतियों पर पूरी तरह से खरा उतर रही:महापौर

-समाज हित में व्यापार करने वाले किराना व्यापारियों को सम्मानित करेगा निगम-महापौर


एस के विरमानी/ऋषिकेश-गृह कार्य में दक्ष और प्रशासनिक कार्य में पूरी तरह से निपूर्ण ।कुछ ऐसी शख्सियत है नगर निगम महापौर की। लॉकडाउन के दौरान दोहरी चुनौतियों पर पूरी तरह से खरा उतरने में महापौर अनिता ममगाई जुटी हुई हैं।देशभर में लॉकडाउन हैं।प्रशासनिक तंत्र लगातार व्यवस्थाएं बनाने के लिए जूझ रहा है।


शहर की प्रथम नागरिक महापौर अनिता ममगाई के लिए भी नगर निगम क्षेत्र में व्यवस्थाओं को बनाना चुनौती बना हुआ है।चुनौती परिवार की किचन संभालने की भी है।महापौर के घर पर बर्तन मांजने वाली नहीं आ रहीं। ऐसे में खाना पकाने के साथ वे बर्तन मांजते हुए भी दिख रही हैं। 


मेयर का संदेश यह है कि लोग घर पर ही रहें। कोरोना के प्रकोप से तभी बचा जा सकता है। घर के कामों और परिवार के साथ समय व्‍यतीत करें। यह समय बंदिश नहीं, बल्कि आपके जीवन रक्षा के लिए है।उन्होंने कहा कि कोरोना के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए और इससे निपटने व आम व्यक्ति के स्वास्थ्य का ख्याल रखते हुए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में 21 दिन का लॉक डाउन कर दिया है जो जहां है वहीं रहे, लक्ष्मण रेखा ना लांघे। 


मेयर अनिता ममगाई भी लक्ष्मण रेखा न लांघने की अपील का अनुसरण करते हुए घरेलू कार्यों को निपटाने में दिनभर समय व्यतित कर रही हैं।महापौर का कहना है कि कोरोना के चलते घर में काम करने वालों को छुट्टी दी गयी है, अब वो खुद ही घर और रसोई का कार्य संभाल रही है। 


इस कार्य में उन्हें उनके पति  डा हेतराम का भी  पूरा सहयोग मिल रहा है। इस समय दोनों मिलकर काम कर रहे हैं।वहीं  मेयर ने सभी पतियों से अपील की कि इस समय वो अपनी पत्नियों का पूरा सहयोग करे। घर के काम काज में पूरा साथ दे और मिलकर काम करे जिससे पत्नियों पर काम का अधिक बोझ न पड़े। 


महापौर का कहना था कि मैं पीएम नरेंद्र मोदी के अभी तक के सभी आदेशों का अक्षरशः पालन कर रही हूं। मैं घर में ही हूं लेकिन शहर के प्रति जिम्मेदारी का निर्वहन भी घर में रहकर पूरा कर रही हूं। फ़ोन के माध्यम से लगातार कोरोना से निपटने के लिए नगर निगम की ओर से किये जा रहे कार्यों की जानकारी ले रही हूं और इससे संबंधित आवश्यक दिशा निर्देश दिए जा रहे हैं जिससे शहर में अच्छी तरफ से निरंतर फॉगिंग और सफाई हो सके।



महापौर ने कहा कि टेलीफोन के माध्यम से पार्षदों व सामाजिक संगठनों के पदाधिकारियों से भी वार्ता कर अनुरोध किया गया है कि इस समय देश संकट की घड़ी में है जो जहां रह रहा है वह वहां के आधे किलोमीटर की एरिया में यदि झुग्गी झोपड़ी, सड़क किनारे और फुटपाथ व नालों के किनारे रहने वाले गरीब लोगों को एक समय का भोजन अवश्य उपलब्ध कराएं। 


उन्होंने कहा कि देश इस समय संकट में है और इस संकट की मार सबसे ज्यादा इन्हीं लोगों और दिहाड़ी मजदूरों पर है। ऐसे संकट में जो साधन संपन्न लोग हैं, जिन पर ईश्वर की कृपा है वह अहसहाय लोगों की मदद कर सकते हैं। इतना ही नहीं महापौर ने अपील की है कि इस पुनीत कार्य को करते वक्त वह स्थानीय पुलिस प्रशासन का सहयोग लें जिससे गरीब लोगों को भोजन वितरण करने के दौरान किसी तरह की कोई दिक्कत ना आए।


इसके अलावा महापौर ने ऋषिकेश के समस्त किराना व्यापारियों से यह अपील की है कि इस संकट के दौर में अगर कोई व्यापारी नो प्रॉफिट नो लॉस पर अपने सामान का विक्रय करता है तो वह मुझे अवगत कराएं। लॉक डाउन खत्म हो जाने के बाद ऐसे किराना व्यापारियों को नगर निगम की ओर से सम्मानित भी किया जाएगा।
Share To:

Post A Comment: