देहरादून एस के विरमानी।विगत कुछ दिनों पूर्व वन्य जीव अपराध नियत्रण ब्यूरो नई दिल्ली द्वारा सूचना दी थी कि उन्हें थाना कैंट क्षेत्र में वन्य जीवों के अंगों की तस्करी करने वाले गिरोह के सक्रिय होने की गोपनीय जानकारी प्राप्त हुई है। 

जिस पर पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद देहरादून के आदेशानुसार मामले की गंभीरता के दृष्टिगत अन्तर्राजीय शातिर तस्करो की धरपकड़ हेतु पुलिस अधीक्षक नगर व क्षेत्राधिकारी मसूरी के निकट पर्यवेक्षण में थाना प्रभारी कैन्ट के नेतृत्व में पुलिस टीम गठित कर विशेष अभियान चलाया गया। 
                                      

इस अभियान के तहत गठित टीम द्वारा उक्त सूचना पर लगन व मेहनत से कार्यवाही करते हुए क्षेत्र मे मुखबिरों को सक्रिय किया गया व पूर्व में इस प्रकार के कृत्य में संलिप्त अपराधियों के संबंध मे जानकारियां एकत्रित की गई तो 04 फरवरी 2020 की रात्रि को गठित टीम को विश्वसनीय सूत्रों से सूचना प्राप्त हुई कि दो व्यक्ति अनारवाला क्षेत्र मे गुलदार/तेंदुआ की खाल के साथ आये है,जो उसे बेचने के लिए घूम रहे हैं।  

इस सूचना पर त्वरित कार्यवाही करते हुए मुखबिर की निशानदेही पर दो अभियुक्तगणों को गुलदार/तेंदुआ की एक खाल के साथ भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 संशोधन 2006 की धारा 9/39(1)(2)/50/51में मय स्प्लेंडर मोटरसाइकिल के समय 10.15 pm बजे गिरफ्तार कर मौके पर डिप्टी रेंजर सतबीर सिंह को बुलाया गया।


जिनके द्वारा उक्त खाल को तस्दीक करते हुए बताया कि उक्त खाल 8 से 10 वर्ष के व्यस्क गुलदार की खाल है। 
                                         

पुलिस द्वारा गिरफ्तार तस्कर की जानकारी धर्म सिंह पुत्र सब्बल सिंह निवासी भूपाऊ चकराता हाल टोंस कालोनी देहरादून,उम्र 30 वर्ष करीब ओर चन्दर सिंह चैहान पुत्र नदिया चैहान गांव बूरलिया  थाना चकराता देहरादून उम्र 35 वर्ष करीब मिली।

पूछताछ में अभियुक्तगणों द्वारा बताया कि हम दोनों एक दूसरे को कई सालों से जानते हैं,हमारी आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण हमें पैसों की सख्त आवश्यकता थी,जिसके लिए हमने वन्यजीवों को मारकर उसकी खाल एवं अंगों को ऊंचे दामो में बेचने की योजना बनाई। 

योजना के अनुरूप कुछ महीने पहले हमने चकराता के जंगल में एक तेंदूआ, जिसकी खाल की मार्केट में काफी डिमांड रहती है,  को गोली से मारा। फिर उसकी खाल/अंग वहीं पर बेचने का प्रयास भी किया परन्तु लोकल क्षेत्र में पुलिस के डर से हमारी खाल किसी ने नही ली, तो हमने देहरादून में इस गुलदार की खाल को बेचने की योजना बनाई और योजना के अनुरूप हम दोनो कई दिनों से देहरादून में खाल बेचने के लिए ग्राहक तलाश कर रहे थे, आज भी हम खुद को पुलिस और वन विभाग की चेकिंग से बचते-बचाते शहर के बाहर वाले रास्तों से होते हुए कैंट क्षेत्र अनारवाला से राजपुर रोड जा रहे थे, तभी पुलिस ने हमे पकड़ लिया।अभियुक्तगण को समय से माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जाएगा।

जिनके पास से बरामद माल में तेंदुआ/गुलदार की खाल लंबाई करीब 8 फिट 5 इंच और चैड़ाई करीब 5 फिट 3 इंच ओर एक मोटरसाइकिल स्प्लेंडर  UK16 A 7078 मिली और बरामद माल की कीमत लगभग 500000 रुपए है।

इन तस्करों को गिरफ्तार करने में गठित पुलिस टीम में नरेन्द्र पंत क्षेत्राधिकारी मसूरी, थानाध्यक्ष संजय मिश्रा,उप निरीक्षक राजेश सिंह,उप निरीक्षक वेद प्रकाश,कांस्टेबल सूरज राणा,कांस्टेबल मदन कन्याल,कॉस्टेबल सर्वेश कुमार रहे।
Share To:

Post A Comment: