मुनिकीरेती।पुष्पा बडेरा सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज ढालवाला में दो दिवसीय राज्य स्तरीय इंस्पायर अवार्ड मानक प्रदर्शनी एवं प्रोजेक्ट प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।प्रतियोगिता में राज्य के सभी जिलों के बाल वैज्ञानिकों ने प्रतिभाग कर अपने-अपने प्रोजेक्ट प्रदर्शनी में प्रस्तुत किए।

गुरुवार को ढालवाला स्थित श्रीमती पुष्पा बडेरा सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज में आयोजित दो दिवसीय राज्य स्तरीय इंस्पायर अवार्ड मानक प्रदर्शनी एवं प्रोजेक्ट प्रतियोगिता का शुभारंभ मुख्य अतिथि उपाध्यक्ष राष्ट्र स्वास्थ्य अनुसरण परिषद (राज्य मंत्री) ज्ञान सिंह नेगी,उपाध्यक्ष गढवाल मंडल पर्यटन विकास निगम (राज्य मंत्री) कृष्ण कुमार सिंघल व शिक्षा निदेशक सीमा जौनसारी ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित व बालिकाओं द्वारा वंदना गीत से किया गया। 

इस मौके पर प्रदेश के सभी 13 जिलों के बाल वैज्ञानिकों ने अपने-अपने प्रोजेक्टों की प्रदर्शनी लगाकर अपने अंदर छुपी प्रतिभा को उजागर किया। इस मौके पर मुख्य अतिथि राज्यमंत्री ज्ञान सिंह नेगी ने कहा कि सरकार द्वारा चलाई गई राज्य स्तरीय इंस्पायर अवार्ड मानक योजना बाल वैज्ञानिकों के लिए एक महत्वकांची योजना साबित हो रही है। 

उन्होंने बताया कि इस योजना के तहत देश के साथ ही प्रदेश के अंदर सभी विद्यालयों में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के अंदर छुपी प्रतिभा को इन प्रोजेक्टों के माध्यम से आगे लाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि बाल वैज्ञानिकों को सरकार द्वारा एक प्रोजेक्ट तैयार करने के लिए 10 हजार रुपए की प्रोत्साहन राशि दी जाती है। 

उन्होंने इस मौके पर मुख्य शिक्षा अधिकारी टिहरी शिव प्रसाद सेमवाल के साथ ही सभी शिक्षकों का आभार प्रकट करते हुए कहा कि शिक्षकों की मेहनत से ही हमारे देश व प्रदेश में आज के बाल वैज्ञानिक कल के वैज्ञानिक बनकर उभर रहे हैं। राज्यमंत्री कृष्ण कुमार सिंघल ने कहा कि आज राज्य व देश कि दोनों सरकारें पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई के जय जवान,जय किसान व जय विज्ञान के नारे को आगे बढ़ाकर काम कर रही है। 

जिसे आज देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में आगे बढ़ाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज देश विज्ञान के क्षेत्र में आदरणीय भूमिका निभा रहा है। 2014 से अब तक प्रधानमंत्री विज्ञान के क्षेत्र में कई महत्वपूर्ण निर्णय ले चुके हैं। उन्होंने बताया कि वर्ष 2017-18 में 1451,वर्ष 18-19 में 2808 व वर्ष 19-20 में 2411 बाल वैज्ञानिकों के प्रोजेक्ट चयनित किए गए हैं। 


जिसमें टिहरी जिले ने प्रथम स्थान प्राप्त किया है। जिसके लिए उन्होंने मुख्य शिक्षा अधिकारी व सभी शिक्षकों का हौसला अफजाई करते हुए सभी की पीठ थपथपाई। इस मौके पर शिक्षा निदेशक सीमा जौनसारी ने बताया कि जो भी बाल वैज्ञानिक इस प्रतियोगिता में स्थान प्राप्त करेंगे उनको नेशनल में प्रतिभाग करने का मौका मिलेगा।  

जिसमें से 3 बाल वैज्ञानिकों का चयन जापान के लिए किया जाएगा। जिनका पूरा खर्चा भारत सरकार द्वारा किया जाएगा। उन्होंने बताया कि यह योजना एनसीईआरटी के तत्वाधान में भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही है। इस प्रतियोगिता का आयोजन पहले ब्लॉक स्तर पर फिर जिला स्तर पर उसके बाद राज्य स्तर पर किया जाता है। जो बाल वैज्ञानिक राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में सफल होते हैं उन्हें देश में आयोजित होने वाली प्रतियोगिता में प्रतिभाग करने का मौका मिलता है।  

जिसका मूल्यांकन भारत सरकार की अनुसंधान केंद्र से आए वैज्ञानिकों द्वारा किया जाता है। उन्होंने बताया कि इस बार पूरे प्रदेश में इस प्रोजेक्ट प्रतियोगिता के लिए 18 हजार छात्र-छात्राओं ने पंजीकरण किया है। जिसमें 2411 बच्चों के प्रोजेक्टों को चयनित किया गया है। उन्होंने बताया कि अगले वर्ष इस प्रतियोगिता को और भव्य रूप दिया जाएगा।  

उन्होंने कहा कि आज सरकारी स्कूल के छात्र छात्राएं प्राइवेट स्कूलों के छात्र छात्राओं से काफी आगे हैं। जिसमें बालिकाओं का योगदान सबसे अधिक है। उन्होंने कहा कि बालिकाएं किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं है वह हर प्रतियोगिता में बढ़-चढ़कर भाग लेते हैं। कार्यक्रम में पर विभिन्न विद्यालयों के छात्र-छात्राओं द्वारा कई सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ ही बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ,पर्यावरण संरक्षण पर आधारित नुक्कड़ नाटकों से वहां मौजूद लोगों को जागरूक किया। 

इस अवसर पर निदेशक सीमा जौनसारी ने राज्यमंत्री ज्ञान सिंह नेगी व कृष्ण कुमार सिंघल को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस मौके पर प्रबंधक हर्ष मणि व्यास निदेशक श्रीमती सीमा जौनसारी,अपर निदेशक अजय नौटियाल,उप निदेशक राज सिंह रावत,उप निदेशक श्रीमती कंचन देवरानी,मुख्य शिक्षा अधिकारी टिहरी गढ़वाल शिव प्रसाद सेमवाल,खंड शिक्षा अधिकारी ओम प्रकाश वर्मा,उप शिक्षा अधिकारी पंकज कुमार उप्रेती, ऋषि गुप्ता,विपिन पटवारी, विपिन डोभाल,नरेश पुंडीर,जयेंद्र चमोली, नवनीश, प्रभाकर भट्ट, आशीष, वीरेंद्र, कुंज बिहारी भट्ट जयराम कुशवाहा व प्रधानाचार्य श्रीमती पुष्पा वडेरा सरस्वती विद्या मंदिर ढालवाला एवं कार्यक्रम समन्वयक अलखनाथ दुबे व निर्णायक राष्ट्रीय नवप्रवर्तन प्रतिष्ठान भारत सरकार के डॉ नवनीत वार हिमानी गुलेरी आदि मौजूद थे।
Share To:

Post A Comment: