हरिद्वार प्रमोद कुमार ज्वालापुर संत शिरोमणि गुरु रविदास लीला समिति रजि.का 61वां वार्षिकोत्सव समारोह बड़ी धुमधाम से मनाया जा रहा है गुरु रविदास लीला समिति रजि.ज्वालापुर हरिद्वार के वार्षिकोत्सव समारोह में मुख्य अतिथि रोहित कुमार,आर.के.के फिल्म प्रोडक्शन के प्रोडुसर, विशिष्ट अतिथि माननीय योगेन्द्र कुमार, शाखा प्रबन्धक (सेमसंग ) रहें। अतिथियों द्वारा विधिवत रूप से लीला समिति के कलाकारों की आरती कर लीला को शुरू कराया गया इस अवसर पर गुरु रविदास लीला समिति रजि.ज्वालापुर हरिद्वार के समस्त पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं ने मुख्य अतिथि विशिष्ट अतिथि का माल्यार्पण कर स्वागत किया मुख्य अतिथि रोहित कुमार ने गुरु रविदास लीला समिति रजि.के वार्षिकोत्सव समारोह में बोलते हुए कहा कि संत शिरोमणि गुरु रविदास जी एक महान व्यक्तित्व के स्वामी थे। 


जिनकी शिक्षाएं हमारे लिए प्रेरणास्रोत का काम कर रही हैं हमें उनके बताएं मार्ग पर चलकर समाज के हित में कार्य करना चाहिए। उन्होंने कहा कि उन महान संतों में अग्रणी थे जिन्होंने अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज में व्याप्त बुराईयों को दूर करने में महत्त्वपूर्ण योगदान किया। विशिष्ट अतिथि योगेन्द्र कुमार, शाखा प्रबन्धक (सेमसंग) ने कहा कि संत शिरोमणि गुरु रविदास के संदेश आज भी प्रासंगिक हैं उन्होंने कहा कि संत शिरोमणि गुरु रविदास एक महान मानवतावादी और धर्म सुधारक संत थे उन्होंने अपना जीवन जाति विहिन और भेदभाव रहित समाज के निर्माण में लगाया वे आध्यात्मिक बुद्धिमता के प्रतीक थे और समानता में विश्वास रखते थे हमें गुरु रविदास के जीवन व शिक्षाओं से प्रेरणा लेनी चाहिए और विश्व बंधुत्व तथा समानता पर आधारित समाज का लक्ष्य हासिल करने के लिए मजबूत प्रयास करने चाहिए। 
                                        
गुरु रविदास लीला समिति रजि.ज्वालापुर हरिद्वार के समिति के अध्यक्ष श्यामल दबोडिये ने वार्षिकोत्सव समारोह में बोलते हुए कहा कि संत शिरोमणि गुरु रविदास जी ने बिना भेदभाव के आपसी प्रेमभाव की शिक्षा दी संत रविदास का काव्य हमें आडम्बर छोड़कर सरल जीवन जीने की प्रेरणा देता है निर्गुण भक्ति शाखा के महान कवि एवं संत शिरोमणि रविदास उन महान पुरुषों में से एक है। जिन्होंने समाज की धारा का रुख मोड़ दिया था उनके द्वारा गाए दोहो और पदों से आम जनता का उद्धार हुआ अत्यन्त सहदयी स्वभाव के रैदास(संत रविदास)को संत कबीर का समकालीन माना जाता है वो भी कबीर की ही भांति कर्म को ही महत्ता देते थे जात पात आदि से कोसों दूर रहते थे और लोगों को भी यही सीख देते हैं।     
                                        
वार्षिकोत्सव समारोह में मुख्य रूप से अध्यक्ष श्यामल दबोडिये, संयोजक रमेश भूषण, महामंत्री योगेन्द्र पाल रवि, कोषाध्यक्ष राजन कुमार,सह-संयोजक राजेन्द्र पटेल, उपाध्यक्ष सतीश कुमार, संगीतकार महेंद्र पाल, आचार्य जयंती भूषण, महीपाल सिंह, कमाल सिंह हर्ष भूषण,रुपसज्जा राजेन्द्र लाम्बा पवन दबोडिये रोबिन लाम्बा विजय कुमार,मंचसज्जा विनोद कुमार संदीप कुमार,रमेश मौ.सलीम अमरदीप दुष्यंत, छायाकार शि्वपाल रवि,गोपाल सिंह अरविंद कुमार,योगेश कुमार,अंतरिक्ष पालीवाल आदि सैकड़ों महिलाओं और पुरुषों की उपस्थिति भारी संख्या में रही।
Share To:

Post A Comment: