-गांव के खेती करने के तरीके से रूबरू हुए छात्र-छात्राएं 

-किसानों से सीखे खेती के गुर 

-वैज्ञानिक खेती करने के तरीके के बारे में बताया

देहरादून।9 फरवरी।यूनीफायर कृषि प्रशिक्षण केंद्र तथा नई दिशा जनहित ग्रामीण विकास समिति के संयुक्त तत्वाधान में कराए जा रहे रूरल एग्रीकल्चर वर्क एक्सपीरियंस रावे के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में विभिन्न कॉलेजों के छात्र-छात्राएं किसानों से खेती के गुण सीखने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों का भ्रमण कर अपनी जानकारी का विकास कर रहे हैं। 
                                     
हरियाणा बिहार त्रिपुरा उत्तराखंड से आए छात्र-छात्राओं ने कासवाली कोठरी के किसानों से उनकी समस्याओं को जानकर उन्हें वैज्ञानिक तकनीक से खेती करने के बारे में बताया और जैविक खाद का अधिक से अधिक उपयोग 
                                      

करने की सलाह दी उन्होंने कहा कि रासायनिक खेती से हमारा स्वास्थ्य प्रभावित हो रहा है और हम बीमारियों का घर बनते जा रहे हैं रासायनिक प्रयोग बंद करने से हमारी सेहत में गुणात्मक सुधार होगा और यह हमारी जीवन चरिया का एक बेहतरीन नमूना होगा ग्राम प्रधान श्रीमती प्रियंका गुलेरिया ने छात्र छात्राओं को खेती किसानी के तौर-तरीकों से रूबरू कराया और ग्रामीणों से अपील की कि वह ज्यादा से ज्यादा पारंपरिक तरीकों को अपनाएं और रासायनिक खेती से परहेज करें। 
                                                                    
इस अवसर पर यूनीफायर कृषि प्रशिक्षण केंद्र के अमित उपाध्याय अर्जुन कुमार तथा रोहित कुमार और नई दिशा जनहित ग्रामीण विकास समिति के सहयोगी अभिषेक भट्ट सुमित गुलेरिया आदि शामिल रहे।
Share To:

Post A Comment: