-जल संरक्षण और जैविक खेती का लिया संकल्प

-जैविक उगायें,जैविक खायें और जीवंत बने रहें :स्वामी चिदानन्द सरस्वती


ऋषिकेश, 3 फरवरी। परमार्थ निकेतन में दो दिवसीय यात्रा पर गुजरात,कोल्ड स्टोर एशोसिएशन के सदस्य, 250 से भी अधिक श्रद्धालुओं को लेकर पधारे।अपने इस प्रवास में उन्होने गंगा स्नान, दिव्य गंगा आरती, सत्संग और यज्ञ का लाभ लिया।कोल्ड स्टोर एशोसिएशन के सदस्यों ने परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती से भेंट वार्ता कर ’ड्रिप इर्रिगेशन’ (टपकन सिंचाई) के विषय में चर्चा की। 

उन्होने बताया कि विगत कुछ वर्ष पहले हमने आपसे भेंट की थी तब आपने हमें ड्रिप इर्रिगेशन के महत्व के बारे में बताया तथा प्रेरित किया की हमें इसके माध्यम से सिंचाई करना चाहिये। आज हमारे एशोसिएसन से जुड़े सभी लोग इसी के माध्यम से सिंचाई करते है और अधिक पैदावार भी प्राप्त कर रहे है। ड्रिप इर्रिगेशन में पानी की अत्यधिक बचत होती है। इस विधि के द्वारा जल की बूदों को पौधों की जड़ों में टपकाया जाता है।स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज ने ड्रिप इर्रिगेशन और जैविक खेती के विषय में चर्चा करते हुये कहा कि हमारा लक्ष्य अपने देश को जैविक इन्डिया बनाने का होना चाहिये। ड्रिप इर्रिगेशन के माध्यम से जब सिंचाई की जाती है तो फसलों में खाद कम मात्रा में डाली जाती है। मेरा तो सुझाव है कि रासायनिक उर्वरकों का उपयोग बिल्कुल नहीं करना चाहिये।अब समय आ गया है कि ’जैविक उगायें, जैविक खायें और जीवंत बने रहें।’ जैविक वस्तुओं में पोषण की गुणवत्ता अधिक होती है। हमारी सरकार भी इस ओर ध्यान दे रही है अतः जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिये सरकार के साथ जन समुदाय की सहभागिता भी आवश्यक है।
                                         

स्वामी ने कहा कि दुनिया में रहने वाले प्रत्येक मनुष्य को जल की एक-एक बूंद के महत्व को समझना होगा तभी हम जल रूपी वैश्विक त्रासदी से उबर सकते है। जल का संरक्षण समेकित प्रयासों से ही सम्भव हो सकता है। जीवन में छोटे-छोटे परिवर्तन करके जल को बचाया जा सकता है।

गुजरात कोल्ड स्टोर के अध्यक्ष आशीष गुरू ने बताया कि हम विगत कुछ वर्ष पूर्व स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज के दर्शनों के लिये आये थे तब उन्होने हमें बूंद-बूंद सिंचाई के माध्यम से कृषि करने और जल को बचाने का सुझाव दिया था।गुरू ने बताया कि हमारे एशोसिएशन के सदस्यों ने इस पद्धति पर अमल किया जिससे कम जल में भी हमें अधिक पैदावार प्राप्त हुई।
                                      

गुजरात कोल्ड स्टोर के सचिव खुबचंदानी ने कहा कि हमारे एशोसिएशन में कार्य करने वाले सभी सदस्य ड्रिप इर्रिगेशन के माध्यम पहले से अधिक पैदावार ले रहे है। वास्तव में हमारे कम जल वाले क्षेत्र के लिये स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज द्वारा सुझाया सुझाव अत्यंत कारगर सिद्ध हुआ। कोल्ड स्टोर एशोसिएशन की ओर से हम 250 से अधिक श्रद्धालुओं को हरिद्धार और ऋषिकेश की दो-दो दिवसीय यात्रा पर लेकर आये है। सभी श्रद्धालुओं ने परमार्थ गंगा तट पर होने वाली दिव्य आरती में सहभाग किया। वे सभी यहां पर आकर अत्यंत उत्साहित और प्रसन्न है।स्वामी चिदानन्द सरस्वती के सान्निध्य में कोल्ड स्टोर एशोसिएसन के सदस्यों ने विश्व स्तर पर स्वच्छ जल की आपूर्ति हेतु विश्व ग्लोब का जलाभिषेक किया तथा जल संरक्षण और जैविक खेती करने का संकल्प लिया।
Share To:

Post A Comment: