देहरादून एस के विरमानी 1 फ़रवरी।बच्चे किसी भी समाज का भविष्य होते हैं।बच्चों की बढ़ती उम्र और उम्र के साथ उनमें होने वाले बदलाव न केवल बच्चे के विकास बल्कि पूरे समाज के विकास की दिशा तय करते हैं। किशोरावस्था इन बदलावों के दौर में बेहद अहम पड़ाव है ये वाक्य उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने ओएनजीसी, देहरादून के सभागार में एडवांस हेल्थकेयर फाउंडेशन,कलकत्ता द्वारा आयोजित,किशोरावस्था-ए पीरियड्स ऑफ बम्प्स एंड हंप्स ’विषय पर आयोजित संगोष्ठी का शुभारंभ करते हुए कहा।

    
इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि किशोरावस्था जीवन की सबसे संवेदनशील अवस्था होती है तथा इस अवस्था में बच्चों को सही मार्गदर्शन की जरूरत होती है किशोरावस्था में बच्चों को समझाने का दायित्व प्रत्येक माता-पिता,अभिभावक व गुरुजनों का है।
    
उन्होंने कहा कि अखबारों की सुर्खियों में आए दिन किशोरों द्वारा उठाए गए गलत निर्णयों,नशे का शिकार होना,प्रेम प्रसंगों के चलते मार-पिटाई,जैसी अनेक घटनाएं आती रहती है जिन्हें गंभीरता से लेकर उनके समाधान हेतु प्रयास करने चाहिए। अग्रवाल ने कहा कि हम सभी का यह दायित्व है की किशोरावस्था से गुजरने वाले बच्चों को सही राह दिखाएं। इस अवसर पर विभिन्न विद्यालयों से आए हुए छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए।
                                     
  

माता- पिता किशोरावस्था में अपने बच्चों के साथ दोस्तों जैसा व्यवहार करके उनकी समस्याओं का निदान करें ।किशोरावस्था में आने वाली समस्याओं के विषय में स्कूलों व कॉलेजों में  शिक्षक किशोर एवं किशोरियों का सही मार्गदर्शन करें। इस अवसर पर नगर निगम देहरादून के मेयर सुनील उनियाल गामा ने कहा है कि बच्चों को स्वच्छता के प्रति जागरूक  होने की बात कही 

कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रचारक रामसिंह,एडवांस हेल्थ केयर फाउंडेशन की अध्यक्ष श्रेया चट्टोपाध्याय राष्ट्रीय सलाहकार रतन दत्ता,सौरभ काले,एडवोकेट भारत भूषण आदि सहित अनेक लोग उपस्थित थे।
Share To:

Post A Comment: