-संस्थान के स्तर पर इस प्रकरण में टीडीएस संंबंधी नहीं हुई कोई वित्तीय अनियमितता 

ऋषिकेश।एम्स ऋषिकेश प्रशासन ने आयकर विभाग द्वारा संस्थान में टीडीएस संबंधी गड़बड़ी को लेकर की गई टिप्पणियों पर अपनी स्थिति स्पष्ट की है। बताया गया है कि आयकर विभाग की ओर से बीते बृहस्पतिवार को एम्स के लेखानुभाग में स्रोत पर आयकर की कटौती टीडीएस के संबंध में कतिपय अभिलेख उपलब्ध कराए जाने की अपेक्षा की गई थी। जो कि संस्थान के लेखानुभाग द्वारा आयकर विभाग को उपलब्ध करा दिए गए हैं।                                            

बताया गया कि इस दौरान आयकर के संबंधित अधिकारी द्वारा एम्स ऋषिकेश के लेखानुभाग द्वारा टीडीएस के संबंधी में की जा रही कार्यवाही की प्रशंसा भी की गई थी। संस्थान के वित्तीय सलाहकार कमांडेंट पीके मिश्रा व आहरण वितरण अधिकारी जितेंद्र एन. शर्मा ने बताया कि आयकर विभाग के अधिकारी के समक्ष संबंधित अभिलेख प्रस्तुत कर दिए गए थे। साथ ही स्पष्ट कर दिया गया था कि संस्थान की ओर से नियमानुसार टीडीएस की कटौती कर आयकर विभाग के संगत खाते में जमा किया जा चुका है। 

उन्होंने बताया कि विभाग के खाते में संबंधित धनराशि जमा किए जाने के बावजूद आयकर की वेबसाइट पर कदाचित तकनीकि त्रुटिवश दर्शित नहीं हो रहा है। एम्स के अधिकारियों ने स्पष्ट किया है कि संस्थान के स्तर पर इस मामले में न तो कोई लापरवाही बरती गई है और न ही मामला अनियमितता का बनता है। उन्होंने बताया कि यह प्रकरण दो विभागों एम्स व आयकर विभाग के मध्य समायोजन-समाधान का है, लिहाजा आयकर विभाग द्वारा निर्धारित की गई तिथि 25 फरवरी को वांछित प्रपत्र संस्थान के आहरण वितरण अधिकारी द्वारा आयकर अधिकारियों के समक्ष प्रस्तुत कर दिए जाएंगे। अधिकारियों ने स्पष्ट किया है कि संस्थान के स्तर पर इस प्रकरण में टीडीएस संंबंधी कोई वित्तीय अनियमितता नहीं हुई है।
Share To:

Post A Comment: