ऋषिकेश।अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में स्वामी विवेकानंद की जयंती (युवा दिवस) समारोह आयोजित किया गया,जिसमें मुख्यअतिथि राज्यपाल बेबीरानी मौर्यऔर एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने युवाओं व विद्यार्थियों से स्वामी विवेकानंद के जीवन दर्शन को आत्मसात करने का आह्वान किया। 


इस अवसर पर राज्यपाल द्वारा एम्स संस्थान की उत्तरोत्तर प्रगति व उल्लेखनीय चिकित्सकीय सेवाओं के लिए राजभवन की ओर से निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत को प्रशस्तिपत्र भेंटकर सम्मान से नवाजा गया।                                                                                                                                                                                                                           
                                                                            

रविवार को स्वामी विवेकानंद की जयंती पर एम्स संस्थान की ओर से युवाओं को प्रेरित करने के उद्देश्य से प्रात:काल हाफ मैराथन दौड़ का आयोजन किया गया, जिसे सदस्य खेल एवं युवा कल्याण मंत्रालय भारत सरकार शतरूद्र प्रताप सिंह व  एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो.रवि कांत ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। 

                                     
मैराथन आस्थापथ पर एम्स ऋषिकेश से साईं मंदिर तक आयोजित की गई। इस अवसर पर स्वस्थ उत्तराखंड समृद्ध उत्तराखंड विषय पर आयोजित संगोष्ठी में मुख्यअतिथि राज्यपाल बेबीरानी मौर्य ने कहा कि नई प्रतिभाओं से न सिर्फ देश की तरक्की होती है वरन युवाओं का विकास भी होता है। कहा ​कि स्वामी विवेकानंद के विचारों को आगे बढ़ाने की जरुरत है और यह कार्य युवा ही कर सकते हैं। 

                                      
उन्होंने कहा कि चिकित्सकों को अपने समाज व देश के साथ साथ उत्तराखंड जैसे संसाधनविहीन दुर्गम राज्य में स्वास्थ्य सेवाओं को ठीक करने में अपना योगदान सुनिश्चित करना चाहिए। उन्होंने चिकित्सकों से युवा दिवस पर दुर्गम क्षेत्रों में सेवा का संकल्प लेने का आह्वान किया।                                                                                                                                                                                                                                                                                       
                                      

एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने कहा ​कि युवाशक्ति को अपने स्वर्णिम भविष्य के लिए स्वामी विवेकानंद के विचारों को आत्मसात करने की नितांत आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जीवन में अपने व अपने परिवार के लिए कार्य करने से अधिक प्रसन्नता अभावग्रस्त लोगों की सेवा करने से मिलती है,यही मानवता का परम धर्म भी है। 

                                     

लिहाजा प्रत्येक व्यक्ति को अपने जीवन में कुछ समय दूसरों की उन्नति व प्रगति के बारे में सोचने पर भी देना चाहिए।एम्स निदेशक पद्मश्री रवि कांत ने कहा ​किआगे बढ़ने के लिए युवाओं के जीवन में रचनात्मक सोच व सकारात्मक विचारों का होना जरुरी है। 
                                      


लिहाजा युवाओं को अपने भीतर मौजूद दूसरों के लिए अच्छा करने की शक्ति वाले विचारों को कदापि कमजोर नहीं होने देना चाहिए।                                                                                                                                                                           
                                                                                  
विशिष्ठ अतिथि युवा खेल मंत्रालय भारत सरकार के सदस्य शतरूद्र प्रताप सिंह ने कहा कि स्वामी विवेकानंद का जीवन दर्शन युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत है, बताया कि स्वामी विवेकानंद ने अपने जीवन में तिरस्कृत होने के बाद यह सम्मान पाया कि, उन्हें अपने कार्यों व विचारों के लिए आज भी उन्हें दुनियाभर में स्मरण किया जाता है। विशिष्ठ अतिथि ने कहा कि स्वामी विवेकानंद की जयंती पर युवाओं को प्रोत्साहित करने वाले कार्यक्रम किए जाने चाहिए।  


डीन एकेडमिक प्रो. मनोज गुप्ता ने अतिथियों को बताया कि संस्थान के स्तर पर अपने विद्यार्थियों को स्वास्थ्य सेवाओं से विहीन गांवों व सुदूरवर्ती क्षेत्रों में चिकित्सकीय सेवा के लिए प्रेरित किया जाता है,जिससे सभी लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराई जा सकें। 


इस अवसर पर ​उपनिदेशक प्रशासन अंशुमन गुप्ता,एनएमओ के पूर्व संरक्षक प्रो.आरके जैन, प्रो. किम मेमन,प्रो.ब्रिजेंद्र सिंह, कार्यक्रम संयोजक डा. विनोद,डा.मोहित तायल,डा.अनिरूद्ध, डा. यूबी मिश्रा,डा.रविकांत आदि मौजूद थे।                                  

राज्यपाल ने सम्मान से नवाजा युवा दिवस पर एम्स ऋषिकेश में आयोजित विशेष कार्यक्रम में राज्यपाल बेबीरानी मौर्य द्वारा उत्कृष्ठ कार्यों व चिकित्सकीय सेवाओं के लिए राजभवन की ओर से संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत समेत चार चिकित्सकों को सेवा रत्न सम्मान से नवाजा गया। 


राज्यपाल की ओर से सम्मान प्राप्त करने वालों में एम्स निदेशक एम्स प्रो.रवि कांत,अध्यक्ष अल्पसंख्यक आयोग उत्तराखंड डा. आरके जैन,एनएमओ एम्स ऋषिकेश के प्रभारी डा. विनोद व स्वामी विवेकानंद मिशन के सचिव डा.अनुज सिंघल आदि शामिल हैं। यह विशेष सम्मान युवा दिवस पर युवाओं व समाजसेवियों को प्रेरित करने के लिए प्रदान किया गया।                                                                                                                                                     
एनएमओ ने चिकित्सकीय सेवाओं पर किया सम्मानित नेशनल मेडिकोज आर्गेनाइजेशन की ओर से युवा दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में पिछले दो वर्षों में स्वास्थ्य सेवाओं से वंचित दूरदराज के क्षेत्रों व सीमांत राज्यों में चिकित्सा सेवा के लिए एम्स निदेशक पद्मश्री प्रो.रवि कांत समेत 40 चिकित्सकों व समाजसेवियों को सम्मानित किया गया। 


गौरतलब है कि उक्त सभी चिकित्सकों ने जम्मू कश्मीर में 2018 व 2019 में आयोजित की गई ऋषि कश्यप स्वास्थ्य सेवा यात्रा,2019 में गुवाहाटी आसाम में आयोजित धन्वंतरि स्वास्थ्य सेवा यात्रा व उत्तरप्रदेश व नेपाल बार्डर के गांवों में आयोजित गोरक्ष नाथ स्वास्थ्य सेवा यात्रा में अपनी चिकित्सकीय सेवाएं दी थी।                                                                                                                                 
                                                                                                                                                     

60 लोगों ने किया स्वैच्छिक रक्तदान युवा दिवस पर एम्स के ब्लड बैंक में आयोजित स्वैच्छिक रक्तदान शिविर का बतौर मुख्य अतिथि राज्यपाल बेबीरानी मौर्य ने विधिवत शुभारंभ किया। 


इस अवसर पर लोगों ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया।रविवार को आयोजित शिविर में 75 लोगों ने पंजीकरण कराया,जिनमें से 60 लोगों ने स्वैच्छिक रक्तदान किया। इस अवसर पर डा.गीता नेगी,डा.विनोद,यूथ इन एक्शन के संयोजक हिमांकुर चौहान,कौशल,प्रतीक आदि मौजूद थे।
Share To:

Post A Comment: