ढालवाला।गुरुवार 30 जनवरी 2020 को मॉडर्न स्कूल ढालवाला धूमधाम से मनाया बसंत पर्व। मुनिकीरेती क्षेत्र में स्थित मॉडर्न स्कूल ढालवाला में बसंत उत्सव कार्यक्रम सरस्वती देवी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर पूजा अर्चना और सरस्वती वंदना से कार्यक्रम की शुरुआत हुई।छोटे नन्हे मुन्ने बच्चों ने बसंत पर्व के इस कार्यक्रम में प्रतिभाग किया और अपनी प्रतिभा से कार्यक्रम में उपस्थित सभी दर्शकों का मन मोह लिया उपस्थित दर्शक गणों ने तालियां बजाकर प्रतिभागी बच्चों का उत्साहवर्धन किया।कार्यक्रम में मॉडर्न स्कूल ढालवाला की निदेशक डॉ ज्योति जुयाल ने अपने संबोधन में बताया माघ मास के शुक्‍ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाने वाला त्‍योहार बसंत पंचमी आज है। इस दिन विद्या, बुद्धि और ज्ञानदायिनी मां सरस्‍वती की पूजा की जाती है और इस उत्‍सव पर देश भर में रंगारंग कार्यक्रमों का भी आयोजन होता है। इस अवसर पर छोटे बच्‍चें की विद्या का आरंभ करवाए जाने की भी परंपरा है। इसके अलावा विद्यार्थी,लेखक,कवि,गायक, वादक और साहित्‍य से जुड़े लोग भी इस दिन मां सरस्‍वती की आराधना करते हैं। ओर बताया इस पर्व को मनाने की परंपरा और क्‍या है ऐतिहासिक महत्‍व…पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार, मां सरस्‍वती के अवतरण के उपलक्ष्‍य में बसंत पंचमी मनाई जाती है। पुराणों में बताया गया है कि जगत 
                                      
रचियता ब्रह्माजी एक बार भ्रमण पर निकले तो उन्‍हें सारा ब्रह्मांड मूक नजर आया। चारों ओर अजीब सी खामोशी थी। यह देखकर उन्‍हें सृष्टि की रचना में कुछ कमी सी महसूस हुई।मां सरस्‍वती के प्रकट होने पर ब्रह्माजी ने उनसे कहा कि इस सृष्टि में सभी जीव मूक हैं। ये केवल चल रहे हैं, इनमें आपसी संवाद करने का सामर्थ्‍य नहीं हैं। इस पर देवी सरस्‍वती ने उनसे पूछा,प्रभु मेरे लिए क्‍या आज्ञा है? ब्रह्माजी ने कहा,देवी आपको अपनी वीणा के सुरों से इस संसार को ध्‍वनि प्रदान करनी है, ताकि ये सभी आपस में संवाद कर सकें। एक-दूसरे के दुख-तकलीफ को समझ सकें। स्‍नेह दे सकें। उनकी आज्ञा का पालन करके मां सरस्‍वती ने समस्‍त जीवों को आवाज प्रदान की।सर्वप्रथम पूजा की चौकी पर पीला कपड़ा बिछाकर मां सरस्‍वती की प्रतिमा स्‍थापित करें। इसके बाद देवीजी का आचमन करके स्‍नान कराएं। सफेद या पीले फूल और माला चढ़ाएं। इसके मां को सिंदूर अर्पित करें और श्रृंगार की अन्‍य वस्‍तुएं भी भेंट करें। मां के चरणों में गुलाल लगाएं और उन्‍हें श्‍वेत वस्‍त्र पहनाएं। और उसके बाद प्रतिभागी बच्चों को आशीर्वाद दिया और पुरस्कार दिया। 
                                      
बता दे मॉडर्न स्कूल ढालवाला के प्रधानाचार्य डॉ वीके शर्मा ने भी बच्चों को बसंत पर्व के बारे में बताया और कहा वसंत पञ्चमी या श्रीपंचमी एक हिन्दू का त्योहार है। इस दिन विद्या की देवी सरस्वती की पूजा की जाती है। यह पूजा पूर्वी भारत,पश्चिमोत्तर बांग्लादेश,नेपाल और कई राष्ट्रों में बड़े उल्लास से मनायी जाती है। इस दिन पीले वस्त्र धारण करते हैं। और कार्यक्रम में प्रतिभागी बच्चों का उत्साहवर्धन किया और आशीर्वाद दिया और साथ ही उपस्थित सभी बच्चों के माता-पिता का धन्यवाद व्यक्त किया। कार्यक्रम समापन के दौरान बच्चों ने पीले गुब्बारे उड़ाए।मौके पर मॉडर्न स्कूल ढालवाला की निदेशक डॉ ज्योति जुयाल प्रधानाचार्य डॉ वीके शर्मा और स्कूल के सभी अध्यापक,बच्चे और बच्चों के माता-पिता उपस्थित रहे।
Share To:

Post A Comment: