-वादी परमेंद्र मित्तल ने की पुलिस टीम को ₹ 21000/- इनाम देने की घोषणा

 ऋषिकेश।थाना कोतवाली ऋषिकेश में शिकायतकर्ता परमेंद्र मित्तल पुत्र महेंद्र नाथ गुप्ता निवासी 175 आशुतोष नगर ऋषिकेश के द्वारा कोतवाली ऋषिकेश में एक शिकायती प्रार्थना पत्र दिया गया था कि 15 जनवरी 2020 की रात्रि के दौरान मेरी रेलवे रोड पर स्थित फर्म मै० कृष्णा इलेक्ट्रिकल एंड इंजीनियर्स में अज्ञात चोरों द्वारा छत के रास्ते से घुसकर मेरी दुकान से के०ई०आई० ब्रांड की वायर के कई बॉक्स,क्रामटन के पंखे,एवं गल्ले में रखा गया केश रुपया जो कि काले रंग के बैग में था,और उसी बैंग में मेरा पुराना पासपोर्ट भी रखा था,चोरी कर लिया गया है।उक्त कैश मैंने अपनी पत्नी की बीमारी के इलाज हेतु इधर उधर से एकत्रित किया था।
    
शिकायतकर्ता की शिकायत पर कोतवाली ऋषिकेश में तत्काल मुकदमा अपराध संख्या 23/2020, संबंधित धारा 457/380 आईपीसी पंजीकृत कर विवेचना प्रारंभ की गई थी।

चोरी की घटना को देखते हुए उच्चाधिकारी गण पुलिस उप-महानिरीक्षक /वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय जनपद देहरादून के द्वारा तत्काल उक्त चोरी की घटना के अनावरण व शत-प्रतिशत बरामदगी हेतु टीम गठित कर कार्यवाही करने हेतु आदेशित किया गया था।
    
जिसके अनुपालन में पुलिस अधीक्षक देहात पदमेंद्र सिंह डोभाल व क्षेत्राधिकारी वीरेंद्र सिंह रावत ऋषिकेश के निर्देशन में प्रभारी निरीक्षक रितेश शाह ऋषिकेश के द्वारा तत्काल टीम गठित की गई और उनको ब्रीफ करते हुए निम्नलिखित आदेश दिए गए।जिसमे घटनास्थल का निरीक्षण करते हुए घटनास्थल एवं उसके आसपास लगे संस्थानों के सीसीटीवी का बारीकी से विश्लेषण करना।ओर घटनास्थल एवं उसके आसपास मौजूद लोगों से पूछताछ व मुखबिर तंत्र को सक्रिय करना।ओर कोतवाली ऋषिकेश क्षेत्र अंतर्गत पुराने चोरों व आसपास के थानों के पुराने चोरों की सूची बनाकर उनका सत्यापन एवं पूछताछ करना।

ऋषिकेश पुलिस द्वारा गठित पुलिस टीम द्वारा दिए गए आदेशों का अनुपालन करते हुए आसपास के घरों,संस्थानों व पुलिस कंट्रोल रूम के लगे लगभग 22 सी.सी.टी.वी कैमरों को बारीकी से चेक किया तो चार संदिग्ध लोग घटनास्थल के आसपास संदिग्ध अवस्था में घूमते हुए दिखाई दिए।ओर फोटो को आसपास के लोगों व मुखबीर को देकर सक्रिय किया गया ओर इसके अतिरिक्त 17 संदिग्धों को थाने लाकर पूछताछ करते हुए उनका सत्यापन किया गया ओर 21 पुराने जेल से छूटे हुए चोरों से पूछताछ कर सत्यापन किया गया।
                                    

गठित पुलिस टीम द्वारा संदिग्धों की फोटो दिखाकर सत्यापन की कार्रवाई की जा रही थी,कि मुखबिर की सूचना पर श्यामपुर फाटक से पूर्व यात्री स्टैंड के पास से चार अभियुक्तों को पकड़ने में सफलता प्राप्त की गई। जिनके पास बरामद माल के बारे में जानकारी की गई तो उक्त सामान उपरोक्त चोरी से संबंधित बरामद हुआ।

ऋषिकेश पुलिस द्वारा गिरफ्तार अभियुक्त की जानकारी राहुल उर्फ तमंचा पुत्र स्वर्गीय सुभाष निवासी पुरानी जाटव बस्ती रेलवे रोड ऋषिकेश ओर नितिन उर्फ जिद्दी पुत्र मोतीराम निवासी पुरानी जाटव बस्ती रेलवे रोड ऋषिकेश ओर सुजल उर्फ तेलू उर्फ कालू पुत्र स्वर्गीय रिंकू निवासी पुरानी जाटव बस्ती रेलवे रोड ऋषिकेश ओर शोभित उर्फ हिमांशु पांडे पुत्र पदम बहादुर पांडे निवासी पंजाब सिंध क्षेत्र धर्मशाला क्षेत्र रोड ऋषिकेश ओर बता दें फरार अभियुक्त की जानकारी रवि उर्फ़ चवन्नी पुत्र मन बहादुर उर्फ कौशल निवासी हर्ष विहार द्वितीय साहिबाबाद गाजियाबाद उत्तर प्रदेश से मिली।और बता दे जिनके पास से माल बरामदगी में ₹ 7,0 3500/-( सात लाख, तीन हजार, पांच सौ रूपये) की नगद धनराशि ओर पुराने पंखे,बिजली की जली हुई तार मिली।और पूछताछ विवरण में अभियुक्तों द्वारा बताया गया कि उक्त घटना में हम पांच लोग शामिल थे,जिनमें से हमारा साथी रवि उर्फ़ चवन्नी कुछ दिन पूर्व ही जेल से छूटकर आया है। हम लोग बहुत दिन से रात्रि के समय कृष्णा इलेक्ट्रिकल की दुकान की रेकी कर रहे थे। जो जाटव बस्ती से लगी हुई है। हमें जानकारी थी कि इसकी दुकान बहुत अधिक चलती है, तथा इसमें अधिक मात्रा में पैसा मिल सकता है।जिस कारण हम लोगों ने प्लान बना कर रात्रि में अपनी बस्ती के अंदर से एक मंदिर व घर की छत पर चढ़कर उक्त इलेक्ट्रॉनिक की दुकान की छत पर पहुंचकर उसका दरवाजा तोड़ दिया,व दुकान के अंदर जाकर उसके गल्ले को तोड़कर उसके अंदर काले बैग में रखें रुपयों को बैग सहित वहां से कुछ पुराने पंखे व बिजली का तार चोरी कर लिया गया था।
   
हमारे द्वारा जाटव बस्ती के सामने बने शॉपिंग कंपलेक्स में उक्त बिजली के तारों को जलाने की कोशिश की गई थी,ताकि उसके तांबे को इकट्ठा कर भी बेच सकें। 

परंतु तार पूरी तरह से नहीं जल पाई तब हमने पंखे में बिजली के तारों को प्लास्टिक के कट्टों में रखकर छुपा दिया,व उसके बाद हम लोग घूमने चले गए।कुछ दिन पूर्व आकर हमने आपस में पैसों का बंटवारा कर लिया जिसके पश्चात रवि उर्फ़ चवन्नी अपना हिस्सा लेकर चला गया था। आज हम लोग उक्त सामान लेकर कबाड़ी को बेचने वाले थे, व प्राप्त रुपयों को आपस में बैठकर ऋषिकेश से बाहर जाने की फिराक में थे।बता दें अभियुक्त रवि उर्फ़ चवन्नी के अपराधिक इतिहास की जानकारी की जा रही है। उपरोक्त अभियुक्तो मैं से अभियुक्त राहुल एवं नितिन शराब तस्करी में भी संलिप्त है। जिनके विरुद्ध कोतवाली ऋषिकेश में लड़ाई झगड़ा व शराब बेचने का अभियोग भी पंजीकृत है।अभियुक्तों को समय से मा०न्यायालय के समक्ष पेश कर जेल भेजा जाएगा।
Share To:

Post A Comment: