ऋषिकेश।अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में एमबीबीएस विद्यार्थियों के लिए आयोजित इंटर्नशिप ओरिएंटेशन प्रोग्राम विधिवत संपन्न हो गया। आठ दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम में इंटर्नस विद्यार्थियों को चिकित्सकीय क्षेत्र में पेसेंट केयर, रिसर्च, पढ़ाई, आचार व्यवहार समेत विभिन्न पहलुओं के प्रबंधन के तौर तरीके सिखाए गए।                                                                                                                                                       
एम्स में एमबीबीएस इंटर्नस छात्र-छात्राओं के ओरिएंटेशन प्रोग्राम में संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने भावी चिकित्सकों से अपने प्रोफेशन के लिए स्वयं को पूरी तरह से समर्पित करने को कहा, उन्होंने विद्यार्थियों को पढ़ाई के बाद चिकित्सकीय अभ्यास व पेसेंट केयर के वि​भिन्न पहलुओं की जानकारी दी।  इस ​अवसर पर उन्होंने एमबीबीएस विद्यार्थियों को चिकित्सकीय विषय के गूढ़ ज्ञान के साथ ही मरीजों व उनके तीमारदारों के साथ कुशल व्यवहार अपनाने को प्रेरित किया। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने कहा कि एक चिकित्सक की लोकप्रियता के लिए चिकित्सा विज्ञान के ज्ञान के साथ ही उसका व्यवहार कुशल होना भी जरुरी है।                                                                                                                                            
उन्होंने कहा ​कि इंटर्नशिप के दौरान विद्यार्थियों को अपनी प्रेक्टिस पर ध्यान केंद्रित करना होगा, तभी वह मरीज की तकलीफ को समझकर उसे बेहतर उपचार दे सकते सकते हैं। ओरिएंटेशन प्रोग्राम में विशेषज्ञ चिकित्सकों ने प्रशिक्षुओं को चिकित्सकीय जीवन में मैनेज करने के तौर तरीके, रिसर्च, पठन-पाठन, मरीजों की अच्छी देखभाल,व्यस्ततम दिनचर्या के बीच परिवार को पर्याप्त समय देना, पेसेंट व तीमारदार से सद्व्यवहार,  बातचीत का ढंग, कॉमन हेल्थ प्रैक्टिस, मरीज को दवा लिखते समय बरती जाने वाली आवश्यक सावधानियों, हैंड हाईजीन, बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट, स्ट्रैस मैनेजमेंट, ब्लड ट्रांसफ्यूजन आदि का प्रशिक्षण दिया। साथ ही उन्हें आयुष्मान भारत योजना के बाबत भी जानकारियां दी गई।                                                                                                                                                                                      
इस अवसर पर संकायाध्यक्ष (शैक्षणिक) प्रो. मनोज गुप्ता, चिकित्सा अधीक्षक डा. ब्रह्मप्रकाश, मेडिकल एजुकेशन विभागाध्यक्ष प्रो. शालिनी राव आदि मौजूद थे।
Share To:

Post A Comment: