ऋषिकेश।अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में नेत्र रोग विभाग की ओर से आयोजित संगोष्ठी में विशेषज्ञों ने आंखों को सुरक्षित रखने व संक्रमण से आंखों की रोकथाम को लेकर विस्तृत चर्चा की। उन्होंने व्याख्यानमाला के माध्यम से नेत्र संक्रमण के लक्षण, सावधानियां व उपचार आदि के बारे में जानकारी दी। संगोष्ठी में राज्यभर से सरकारी, गैर सरकारी नेत्र चिकित्सकों ने प्रतिभाग किया। 

                                           

शनिवार को उत्तराखंड ऑप्थोमोलॉजी सोसाइटी व ऑल इंडिया ऑप्थोमोलॉजी सोसाइटी के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित संगोष्ठी का बतौर मुख्य अतिथि एम्स निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने विधिवत शुभारंभ किया। 
                                      
इस अवसर पर निदेशक एम्स ने संगोष्ठी में उपस्थित नेत्र विशेषज्ञों से उत्तराखंड को दृष्टिबाधिता से मुक्ति दिलाने को सामुहिक प्रयास का आह्वान किया। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने आंखों के संक्रमण को लेकर जन सामान्य को जागरुक करने पर जोर दिया, जिससे लोगों को आंखों की सुरक्षा संबंधी जानकारियों से रूबरू हो सकें। निदेशक एम्स ने कहा कि चिकित्सक को अपने विषय में दक्षता के साथ साथ व्यवहारिक ज्ञान का होना भी जरुरी है। पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने कहा कि मरीज व उनके तीमारदारों के प्रति कुशल व्यवहार चिकित्सक को लोकप्रिय बनाते हैं।
                                          
संगोष्ठी में मुख्यवक्ता एलवी प्रसाद आई इंस्टीट्यूट हैदराबाद की वरिष्ठ माईक्रो बायोलाॅजिस्ट डा. सावित्री शर्मा ने नेत्रों में होने वाले विभिन्न प्रकार के  संक्रमण की जानकारी दी। उन्होंने इसके लक्षण, कारण और निदान विषय पर विस्तृत व्याख्यान दिया। उन्होंने बताया कि यदि किसी की आंखों में पानी आने, दर्द होने या रोशनी कम होने जैसे लक्षण नजर आएं तो उस व्यक्ति की आंखों में संक्रमण हो सकता है। ऐसी स्थिति में उसे नेत्र सुरक्षा के लिए अति शीघ्र विशेषज्ञ चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।


संस्थान के नेत्र रोग विभागाध्यक्ष डा. संजीव मित्तल ने बताया कि आंखों में संक्रमण के लक्षण पाए जाने पर तत्काल उपचार शुरू कर लेना चाहिए, अन्यथा संक्रमण के फैलने पर आंखों में दृष्टि दोष उत्पन्न होने लगता है और आंखें खराब हो जाती हैं। 

संगोष्ठी में डीन एकेडमिक प्रो. मनोज गुप्ता, डीन एलुमिनाई प्रोफेसर बीना रवि, यूएसओएस के अध्यक्ष डा. सौरभ लूथरा, प्रोफेसर केपीएस मलिक, डा. अजय अग्रवाल, डा. विनीता गुप्ता, डा. अनुपम, रेटिना स्पेशलिस्ट डा. रामानुज, डा. देवेश, कॉर्निया स्पेशलिस्ट डा. नीति गुप्ता, माइक्रो बाॅयालाॅजी विभाग की डा. नीलम, अरूप मोहंती आदि ने व्याख्यान दिया। इस अवसर पर महंत इंद्रेश अस्पताल देहरादून, निर्मल आश्रम अस्पताल ऋषिकेश आदि के नेत्र चिकित्सकों ने भी प्रतिभाग किया।
Share To:

Post A Comment: