-नव वर्ष के अवसर पर परमार्थ गंगा आरती में किया सहभाग

-स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज से हुई भेंटवार्ता

-युवाओं को कौशल विकास के साथ सतत और सुरक्षित विकास का प्रशिक्षण देना अनिवार्य - स्वामी चिदानन्द सरस्वती

ऋषिकेश,1 जनवरी। कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री महेन्द्रनाथ पाण्डेय एवं बीजेपी नेता साध्वी प्राची पधारी परमार्थ निकेतन। परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष, ग्लोबल इण्टरफेथ वाश एलायंस के सह-संस्थापक एवं गंगा एक्शन परिवार के प्रणेता स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज से मंत्री की भेंटवार्ता हुई। स्वामी ने मंत्री से पर्यावरण प्रौद्योगिकी; 
                                     
हरित प्रौद्योगिकी एवं स्वच्छ प्रौद्योगिकी, पर्यावरण संरक्षण एवं क्लाइमेंट चेंज के विषयों पर चर्चा की।स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज ने कहा कि युवाओं को कौशल विकास के साथ सतत और सुरक्षित विकास का प्रशिक्षण देना अनिवार्य है। रोजगार परक पाठ्यक्रम के साथ पर्यावरण संरक्षण और जल संरक्षण के पाठ्यक्रम को सम्मिलित करना चाहिये। स्वामी ने कहा कि हमारे देश के युवाओेें में अपार क्षमता है।नव वर्ष के अवसर पर युवाओं का आह्वान करते हुये स्वामी ने 
                                    

कहा कि सभी युवा मिलकर अपने विकास और कौशल के बल पर एक ऐसे विश्व का निर्माण करे जहां पर आपस में सद्भाव, समरसता,भाईचारा हो तथा सब मिलकर शान्ति के लिये कार्य करें। युवा अपने लक्ष्यों को उच्चतम एवं श्रेष्ठतम बनायें। साथ ही वसुधैव कुटुम्बकम की संस्कृति को अपनायें तथा प्रकति के साथ मित्रवत् व्यवहार करें और अपनी जड़ों से जुडे रहें।महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने कहा कि नव वर्ष में सपरिवार माँ गंगा जी की आरती और स्वामी महाराज का पावन सान्निध्य और आशीर्वाद पाकर धन्य हूँ। परमार्थ निकेतन 
                                    

आकर नये संकल्प और सकारात्मक ऊर्जा का संचार स्वतः ही हो जाता ह।साध्वी प्राची ने कहा कि सद्भाव, समरसता और अपनत्व का अद्भुत मिलन है परमार्थ गंगा तट।स्वामी चिदानन्द सरस्वती महाराज ने  मंत्री महेन्द्र नाथ पाण्डेय एवं साध्वी प्राची को पर्यावरण का प्रतीक रूद्राक्ष का पौधा  भेंट किया एवं अन्तर्राष्ट्रीय योग महोत्सव में सहभाग हेतु परमार्थ निकेतन पधारने के लिये आमंत्रित किया। स्वामी के पावन सान्निध्य में विश्व स्तर पर स्वच्छ जल की आपूर्ति हेतु वाटर ब्लेसिंग सेरेमनी सम्पन्न की।
Share To:

Post A Comment: