ऋषिकेश- व्यापार उजड़ने से घबराए मीट व्यवसायियों ने महापौर से उनका व्यापार बचाने की गुहार लगाई है। इस दौरान निगम प्रशासन की तमाम शर्तों का सशर्त अनुपालन करने का भरोसा मीट व्यवसायियों द्वारा महापौर को दिया गया। 

उनकी तमाम बातें गौर से सुनने के प्रश्चात महापौर द्वारा उन्हें मदद का आश्वासन दिया गया। महापौर ने इस बाबत कहा कि इसके लिए शासन स्तर पर वार्ता के पश्चात नगर निगम की ओर से ऐसे क्षेत्र में उन्हें भूमि उपलब्ध कराई जाएगी जहां शहर की धार्मिक अस्मिता प्रभावित न हो। लेकिन व्यवसाय से जुड़े व्यापारियों को साफ सफाई सहित तमाम नियम और कायदे कानून का पूर्ण अनुपालन करना होगा।

शनिवार की दोपहर बड़ी संख्या में मीट व्यवसायी नगर निगम महापौर अनिता ममगाई के कार्यालय में उनसे मिले,और उनसे अपने रोजगार बचाने की गुहार लगाई।  
                                     

मीट व्यापारियों का कहना था कि वह वर्षों से इंदिरा नगर क्षेत्र में अपना व्यापार चलाकर परिवार का भरण पोषण कर रहे हैं। उन्हें हटाने से पहले व्यवसाय चलाने की व्यवस्था की जाए। ताकि उनके परिवार का भरण पोषण सुचारू रूप से चल सके। बता दें कि एमएनए नरेन्द्र सिंह क्वींरियाल ने मीट व्यापारियों को 31 दिसंबर तक का अल्टीमेटम दिया था। 

उन्होंने नगर निगम क्षेत्र में बिना लाइसेंस मीट का व्यवसाय नहीं होने देने की भी बात कही थी।  इसके बाद से मीट व्यवसायियों में हड़कंप मचा हुआ था।

महापौर से मिलने वालों में पार्षद राजू बिष्ट,पार्षद विजेंद्रमोघा,मोहनलाल,शुभमतोमर,आलोककुमार,अंकुरगुजराल,अजय सिंह दीपक तोमर,ऋषि प्रसाद,हरिद्वारि प्रसाद भगवान सिंह,चांदवीर,यासीन कुरैशी,सुरेन्द्र,बाबू खान,नदीम,जीशान,याशीन,नोबीन,जीशान,फईम,भूरा,हरि,राजेशउनियाल,सौराज,रामपाल,आशू,मोहनलाल सरवालीया,प्रदीप कुमार आदि शामिल रहे।
Share To:

Post A Comment: