ऋषिकेश।।अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान एम्स ऋषिकेश में ट्रॉमा यूनिट की स्थापना व विकास विषय पर अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया गया। जिसमें वरिष्ठ प्लास्टिक सर्जन प्रो.एस. राजा सभापति ने व्याख्यान प्रस्तुत किया। इस दौरान उन्होंने संस्थान के सर्जरी से जुड़े चिकित्सकों को लीडरशिप की भूमिका निभाने के लिए प्रेरित किया।                                                                                                                                                                                      
एम्स के बर्न एवं प्लास्टिक चिकित्सा विभाग की ओर से आयोजित अतिथि व्याख्यान में संस्थान के निदेशक पद्मश्री प्रोफेसर रवि कांत ने उम्मीद जताई कि प्रो. राजा के अनुभव व सहयोग से संस्थान के बेहतर ट्रॉमा सेंटर स्थापित करने सहायता मिलेगी। जिससे ब्लास्टिंग, पहाड़ों पर होने वाली सड़क दुर्घटनाओं में घायलों के बेहतर उपचार मिल सकेगा। निदेशक एम्स पद्मश्री प्रो. रवि कांत ने बताया कि संस्थान के बर्न एंड प्लास्टिक चिकित्सा विभाग में मरीजों को कटे हाथ, कटी ऊंगलियों को फिर से जोड़ने की सर्जरी उपलब्ध है। जिससे मरीज को ताउम्र अपाहिज होने से बचाया जा सके और वह फिर से मुख्यधारा से जुड़ सके।                                                                                                                                                            
इस अवसर पर गंगा अस्पताल कोयंबटूर के वरिष्ठ प्लास्टिक सर्जन व एम्स के विजिटिंग प्रोफेसर एस. राजा सभापति ने संस्थान में ट्रॉमा सेंटर की स्थापना विषय पर व्याख्यान दिया। उन्होंने ट्रॉमा से जुड़ी घटनाओं को लेकर लोगों को जागरुक करने पर जोर दिया, जिससे लोग लापरवाही से दुर्घटनाओं का शिकार होने से बच सकें। उन्होंने कहा कि ट्रॉमा से जुड़े मामलों में मरीज के बेहतर उपचार के लिए एनेस्थिसिया, ट्रॉमा सर्जन व प्लास्टिक सर्जन के मध्य बेहतर समन्वय का होना जरुरी है। तभी चिकित्सकों का दल मरीज को राहत दे सकता है।                                    
उन्होंने बताया कि प्लास्टिक सर्जरी से ब्लास्टिंग व दुर्घटना में हाथ-पैर कटने से घायल लोगों का बेहतर उपचार कर उनके अंगों को दोबारा जोड़कर उन्हें नया जीवनदान दिया जा सकता है। इस अवसर पर ट्रॉमा सर्जरी विभागाध्यक्ष प्रो. कमर आजम, हेड एंड नेक कैंसर विभागाध्यक्ष प्रो. एसपी अग्रवाल, प्रो. किम मेमन, बर्न एवं प्लास्टिक चिकित्सा विभागाध्यक्ष डा. विशाल मागो, डा.मधुर उनियाल, डा. अजय कुमार, डा. भियांराम,डा. सिद्धार्थ, डा. घोसला रेड्डी,डा. अमूल्य रतन, डा. राजेश कुमार,डा. नीरज आदि मौजूद थे।
Share To:

Post A Comment: